समर्थक

शनिवार, 11 मई 2013

मैं हूँ मौसी शेर की बेटा !


    


पिंकी  बिल्ली गई  थी दिल्ली लेकर सूटकेस ,

सूटकेस में थे गहने कंगन, रिंग, नेकलेस ,

ऑटो में  वो ज्यों ही बैठी साथ चढ़ा एक चोर ,

सूटकेस लेकर वो भागा , मचा जोर का शोर 


पिंकी भागी उसके पीछे , मारा पीठ पे पंजा ,

चोर गिरा वही सड़क पर पापी नीच लफंगा ,

पिंकी ने फिर गला दबाकर उसको यूँ धमकाया ,

मैं हूँ मौसी शेर की बेटा ! बोल समझ में आया ,


चोर ने डरकर पकड़ लिए बिल्ली मौसी के पैर ,

ऐसी चपल-चतुर मौसी से रखना न बच्चो बैर !

     शिखा कौशिक 'नूतन '