समर्थक

बुधवार, 20 जुलाई 2011

पापा हमको ''डॉगी '' ला दो

 पापा हमको ''डॉगी  '' ला दो 
हम डॉगी संग खेलेंगे ;
उसको पुचकारेंगे जी भर 
कभी गोद में ले लेंगे .


पूंछ हिलाएगा जब आकर 
उसको हम सहलायेंगे ;                                                    
मिटटी में गन्दा होगा जब 
उसको हम नहलायेंगे .
पापा हमको ...

बन्दर जब आयेंगे छत पर 
डॉगी से भगवाएंगे   ;
उश ..उश ..कर कूद कूद कर 
उसको जोश दिलाएंगे 
पापा हमको .....

उसको बाँहों में भर लेंगे 
जब स्कूल से आयेंगे ;                                                           
हाथ मिलाना सिखलाएंगे 
योगा भी करवाएंगे .
पापा हमको .....

                    शिखा कौशिक 


13 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

क्या बात है बिलकुल सच शब्दों में उतार दिया है आभार.शिखा जी

Akshita (Pakhi) ने कहा…

Doggy to vakai pyara hai..

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत सुन्दर बच्चों को डोगी से बहुत प्यार होता है...

vidhya ने कहा…

sundar

"रुनझुन" ने कहा…

अच्छी लगी ये कविता...मुझे तो डॉगी से बहुत डर लगता है लेकिन मेरा छोटा भाई बिल्कुल ऐसे ही पापा से डॉगी लाने की ज़िद करता है... अब मैं उसे ये कविता ज़रूर सुनाउंगी।

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत सुन्दर...

ज्योति सिंह ने कहा…

bahut pyari rachna ,dogi ko is roop me pahle nahi dekha .wakai kaam ka hai dogi .

JHAROKHA ने कहा…

shalini ji
bahut bahut sundar v pyara laga aapka bal geet.
waqai padh kar aanand aa gaya.
bahut hi sunadr prastuti
bahut bahut badhai
poonam

JHAROKHA ने कहा…

shalini ji
bahut bahut hi sundar v pyara laga aapka yah bal geet.
sach me bachcho ko dogi se bahut hi pyar jo hai
bahut bahut badhi
poonam

संजय भास्कर ने कहा…

रचना बहुत सुंदर लगीं

Surendra shukla" Bhramar"5 ने कहा…

शिखा जी देवी की कृपा से आनंद आ गया सुन्दर बाल कविता हम भी बन्दर भागने के लिए उश उश करने लगे
सुंदर रचना कोमल भाव
बधाई हो
शुक्ल भ्रमर ५
बाल झरोखा सत्यम की दुनिया

बन्दर जब आयेंगे छत पर
डॉगी से भगवाएंगे ;
उश ..उश ..कर कूद कूद कर
उसको जोश दिलाएंगे

चैतन्य शर्मा ने कहा…

क्यूट फोटोस और प्यारी कविता

mahendra srivastava ने कहा…

बहुत सुंदर
बच्चों को जल्दी याद भी हो जाएगी