समर्थक

शनिवार, 5 फ़रवरी 2011

      प्यारी तितली
रंग बिरंगी ,नीली -पीली
चंचल ,चपल -थिरकती तितली ;
फूल के ऊपर छतरी बनकर
नाच रही है प्यारी तितली ;
टिंकू, मिंकू , पिंकी -चिंकी
 सबको लगती प्यारी तितली;
ललचाकर है पास बुलाती
पास बुलाकर खुद उड़ जाती
बच्चों की है हँसी उड़ाती
फिर भी जग से न्यारी तितली ;
रंग बिरंगी ,नीली-पीली
चंचल चपल ,थिरकती तितली .

2 टिप्‍पणियां:

चैतन्य शर्मा ने कहा…

हाँ ..तितली तो बहुत प्यारी होती है...सुंदर कविता

Minakshi Pant ने कहा…

नीली - पीली , रंग - बिरंगी
सबके मन को हरती तितली
बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनायें !
बहुत सुन्दर रचना !