समर्थक

शनिवार, 6 अप्रैल 2013

बच्चा जब फिर वहीँ आ लिया ."ओ बी ओ लाइव महा-उत्सव" अंक - ३०


Pink Rose. Photo by timorousHollyhocks.  Photo by timorousBlue and pink delphinium.  Photo by timorous
Happy Boy Stock Photos - 8451183Naughty Child Stock Photos - 20149913
आँख चुराकर ,मुहं छिपाकर ,
मुझसे थोडा बच-बचकर ,
आस-पास के बच्चे देखें ,
मेरी बगिया को ललचाकर .

कुर्सी पर जो बैठकर देखूं ,
घर से आगे बढ़ जाएँ ,
टहल-टहल जो छिपूं कभी मैं ,
बगिया के द्वारे आ जाएँ .

 मैं भी पक्की हूँ शरारती ,
लुका-छिपी तो खेलूंगी ,
फूल खिले जो हैं बगिया में ,
उनको आज बचा लूंगी .

थोडा सा मैं छिपकर बैठी ,
बच्चा एक था ऊपर आया ,
बगिया के बाहर से उसने ,
फूल के ऊपर हाथ बढाया .

 दौड़ी उस पर तेज़ भागकर ,
बच्चा नहीं पकड़ में आया ,
दूर से जाकर औरों से मिल ,
उसने मुझको खूब चिढाया .

गुस्सा आया उस पर मुझको ,
अपनी हार से शर्मिंदा थी ,
पकडूँगी पर इन्हें कभी तो ,
आस मेरी अब भी जिंदा थी .

 घर के अन्दर जाने का फिर,
 मैंने खूब था स्वांग रचा,
जिस में फंसकर एक शिकारी ,
बच्चा लेने लगा मज़ा .

खूब उछलकर,कूद फांदकर ,
बगिया में था धमक गया ,
तभी मेरे हाथों में फंसकर ,
उसका हाथ था अटक गया .

रोना शुरू हुआ बच्चे का ,
मम्मी-मम्मी लगा चीखने ,
देख के उसका रोना धोना ,
मेरा मन भी लगा पिघलने .

थोडा सा समझाया उसको ,
फूलों से भी मिलवाया ,
नहीं करेगा काम कभी ये ,
ऐसा प्रण भी दिलवाया .

 खुश थी अपनी विजय देखकर ,
फूलों को था बचा लिया ,
माथा पकड़ा अगले दिन तब ,
बच्चा जब फिर वहीँ आ लिया .

    शालिनी कौशिक 

 तुकांत कविता-"मौलिक व अप्रकाशित"

5 टिप्‍पणियां:

डॉ शिखा कौशिक ''नूतन '' ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति | शुभकामनायें . हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

BHARTIY NARI
PLEASE VISIT .

gulab chand jaisal ने कहा…

प्रशंसनीय कविता

gulab chand jaisal ने कहा…

बच्चा
gulab37blog
पेड़ के झुरमुट से
झांकता हुआ
बच्चा |
चाँद सा प्रतीत होता है
जब वह
बादलों की ओट से
झांकता है |
कभी–
हवा के झोंके से
बादल चाँद को
ढक लेते हैं
कभी–
पेड़ों की पत्तियां
बच्चे के चहरे को |
पर !
एक चीज दोनों में
‘कमान’ है
चहरे का ढाका जाना !
क्या ?
यूं ही
बच्चा उठाता रहेगा
बस्ते का बोझ
छुपता रहेगा
विद्यालय जाने से
बचने के लिए ?
क्या ?
यूं ही
उसे प्रतिबंधित किया जायेगा
खेलने से
परीक्षा का डर दिखाकर ?
क्या ? यूं ही
वह सोचता रहेगा
कि–
काश !
मुझे बच्चा रहने दिया जाये |
क्यों ?
मुझे लोग
बड़ा बनाने पर तुले हैं ?
क्या ?
मैं
रह न पाउँगा
बच्चा ?
पेड़ के झुरमुट से
झांकता हुआ बच्चा –
चाँद – सा प्रतीत होता है
जब वह
बादलों की ओट से
झांकता है !!
द्वारा — गुलाब चन्द जैसल
नोट: सारे अधिकार कवि के अधीन हैं |

gulab chand jaisal ने कहा…

बच्चा
Posted on मई 25, 2010 by gulab37blog
पेड़ के झुरमुट से
झांकता हुआ
बच्चा |
चाँद सा प्रतीत होता है
जब वह
बादलों की ओट से
झांकता है |
कभी–
हवा के झोंके से
बादल चाँद को
ढक लेते हैं
कभी–
पेड़ों की पत्तियां
बच्चे के चहरे को |
पर !
एक चीज दोनों में
‘कमान’ है
चहरे का ढाका जाना !
क्या ?
यूं ही
बच्चा उठाता रहेगा
बस्ते का बोझ
छुपता रहेगा
विद्यालय जाने से
बचने के लिए ?
क्या ?
यूं ही
उसे प्रतिबंधित किया जायेगा
खेलने से
परीक्षा का डर दिखाकर ?
क्या ? यूं ही
वह सोचता रहेगा
कि–
काश !
मुझे बच्चा रहने दिया जाये |
क्यों ?
मुझे लोग
बड़ा बनाने पर तुले हैं ?
क्या ?
मैं
रह न पाउँगा
बच्चा ?
पेड़ के झुरमुट से
झांकता हुआ बच्चा –
चाँद – सा प्रतीत होता है
जब वह
बादलों की ओट से
झांकता है !!
द्वारा — गुलाब चन्द जैसल
नोट: सारे अधिकार कवि के अधीन हैं |

Surendra shukla" Bhramar"5 ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति... शुभकामनायें

प्यारी बाल रचना ...
भ्रमर ५