समर्थक

मंगलवार, 21 दिसंबर 2010

''बात समझ लो मुन्ना जी ...''

प्यारे-प्यारे दादा जी ,हमे बचाओ दादा जी ,
दादी हमसे रूठ गयी हैं ,उन्हें मनाओ दादा जी .
***************************************************************
प्यारे प्यारे मुन्ना जी ,एक बात बताओ मुन्ना जी ,
क्यों रूठी है दादी तुमसे ,की शैतानी मुन्ना जी ?
*********************************************************************
हम तो क्रिकेट खेल रहे थे ,छक्का मारा दादा जी ,
गेंद उछल कर उनके लग गयी ,
हम क्या करते दादा जी ?
*****************************************************************
प्यारे प्यारे मुन्ना जी ,माफ़ी मांगों मुन्ना जी ,
कान पकड़कर ;मुर्गा बनकर  ,उन्हें मनाओ मुन्ना जी .
********************************************************************
प्यारी प्यारी दादी जी ,कान पकड़ते दादी जी ,
अब ऐसे न हम खेलेंगे ,करते वादा दादी जी .
************************************************************
प्यारे प्यारे मुन्ना जी ,माफ़ किया तुम्हे मुन्ना जी ,
चोट किसी के नहीं मरते ,बात समझ लो मुन्ना जी .
***************************************************************
                               शिखा  कौशिक

3 टिप्‍पणियां:

खबरों की दुनियाँ ने कहा…

अच्छी पोस्ट , शुभकामनाएं । "खबरों की दुनियाँ"

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

बहुत सुन्दर पोस्ट है!
इसे आज के चर्चा मंच पर चर्चा में लिया गया है!
http://charchamanch.uchcharan.com/2010/12/376.html

Akshita (Pakhi) ने कहा…

बहुत बढ़िया लगा इसे पढ़कर..मजा आ गया.


'पाखी की दुनिया' में भी आपका स्वागत है.